सुकन्या समृद्धि योजना इन हिंदी | Sukanya Samriddhi Yojana in hindi

सुकन्या समृद्धि खाता फॉर्म | Sukanya Samriddhi Yojana in hindi

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा देशवासियों की भलाई के लिए कई तरह की योजनाओं की शुरुआत की गयी है. इन्हीं योजनाओं में एक योजना है सुकन्या समृद्धि अकाउंट योजना. इस योजना के अंतर्गत देश में जन्म लेने वाली बच्चियों को विभिन्न तरह का लाभ पहुँचाया जाएगा. इस योजना का लाभ लगभग देश भर के सभी परिवारों को प्राप्त होगा. योजना में सरकार द्वारा दिए गये पैसे का लाभ किसी बच्ची के माँ पिता उसकी उच्च शिक्षा तथा उसके विवाह के लिए कर पायेंगे. यह योजना स्त्रियों के भविष्य और उनके स्वाभिमान से सम्बंधित होने की वजह से इसे आम लोगों द्वारा खूब सराहा गया है. यह योजना प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी के द्वारा 22 जनवरी 2015 को बेटी बचाओ बेटी पढाओ योजना के अंतर्गत शुरू की गई.

सुकन्या समृद्धि योजना

भारत में लैंगिक असमानता एक बहुत बड़ी समस्या के रूप में सामने आई है. यहाँ पर अक्सर ये देखा गया है कि लड़कों की शिक्षा पर लड़कियों की शिक्षा की अपेक्षा अधिक ध्यान दिया जाता है. इस वजह से सरकार ने स्त्रियों की शिक्षा को बढ़ावा देन एके लिए इस योजना की शुरूआत की है. यहाँ पर इस योजना से सम्बंधित विशेष जानकारियाँ आपको दी जायेंगी.

सुकन्या समृद्धि अकाउंट खोलने के लिये आवश्यक योग्यता (Sukanya Samriddhi Account Eligibility)

यह योजना सभी ज़रूरतमंद लोगों तक पहुंचे इसके लिए सरकार ने कुछ विशेष नियम बनाए हैं. अन्य विभिन्न तरह के अकाउंट खोलने की ही तरह सुकन्या समृद्धि अकाउंट खोलने के लिए भी कुछ शर्तें एवं नियम बनाए गये हैं, जो निम्नलिखित है.

  • सबसे पहले ये जानना आवश्यक है, कि जिस बच्ची को इस योजना का लाभ प्राप्त होगा, उसके माँ पिता अथवा उसके कानूनी रूप से जायज़ अभिभावक इस अकाउंट के लिए आवेदन दे सकते हैं.
  • 10 वर्ष से कम आयु वाली किसी भी बच्ची के लिए किसी भी समय इस योजना के अंतर्गत अकाउंट खोलने का आवेदन दिया जा सकता है.
  • ग्रेस पीरियड के तौर पर ये तय किया गया है कि 2 फरवरी 2003 से 1 दिसम्बर 2015 के अंतर्गत जन्म हुई बच्चियों के लिए भी इस योजना के तहत खाता खोलने एक मौक़ा प्राप्त होगा.

सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट खोलने के लिए आवश्यक दस्तावेज (Sukanya Samriddhi Account Required Documents)

इस योजना का लाभ उठाने के लिए सभी आवश्यक दस्तावेज़ों को बैंक में जमा करना आवश्यक है. इन दस्तावेजों के साथ ही इसका आवेदन भी जमा देना होता है. इनके आवश्यक दस्तावेज़ निम्नलिखित हैं.

  • सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट फॉर्म.
  • बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र.
  • बच्ची के माता पिता अथवा अभिभावक के पहचान पत्र जैसे –
  1. आधार कार्ड.
  2. पैन कार्ड.
  3. राशन कार्ड.
  4. ड्राइविंग लाइसेंस
  5. पासपोर्ट आदि
  • माता पिता अथवा अभिभावक का आवासीय पते का प्रमाण पत्र, जैसे राशन कार्ड, बिजली बिल आदि.

सुकन्या समृद्धि योजना अकाउंट में नामांकन कैसे करें (How to Register for Sukanya Samriddhi Account)

इस योजना के अंतर्गत अपना नामांकन कराने की विधि निम्नलिखित है.

  • अपनी बच्ची के लिए योजना के अंतर्गत अकाउंट खोलने के लिए आपको किसी मान्यता प्राप्त बैंक अथवा पोस्ट ऑफिस में जा कर फॉर्म प्राप्त करना होता है.
  • फॉर्म प्राप्त हो जाने के बाद इसे अच्छे से भर के उपरोक्त आवश्यक दस्तावेजों के साथ जहाँ से आपने फॉर्म उठाया है, वहाँ चले जाएँ.
  • यहाँ पर आपको बच्ची की जन्मपत्री दिखाने की सख्त आवश्यकता होती है. इसके बिना अकाउंट नहीं खुल सकेगा.
  • इस अकाउंट को खोलने के लिए आपको रू 1000 जमा करना होता है.
  • अकाउंट खुल जाने के बाद प्रति वर्ष आपको इस अकाउंट में कम से कम रू 100 जमा कराने की आवश्यकता होती है.
  • ध्यान देने वाली बात ये है की इस अकाउंट में अधिकतम रू 1,50,000 जमा कराये जा सकते है.
  • योजना के अंतर्गत आपको 14 वर्ष तक लगातार प्रति वर्ष पैसे डिपाजिट करने की आवश्यकता होती है. उदाहरण के लिए कल्पना कीजिये कि आपकी बच्ची की आयु a वर्ष है, तो आपको a+14 वर्ष की आयु तक इसा योजना के अंतर्गत पैसा जमा कराने की आवश्यकता होती है.

सुकन्या समृद्धि योजना की विशेषता (Sukanya Samriddhi Account Features)

इस योजना की कई विशेषताएँ किसी को भी अपनी पुत्री के लिए अकाउंट खोलने के लिए प्रेरित करेगी. इस योजना के कुछ प्रमुख्य विशेषताओं का वर्णन निम्नलिखित है.

  • इस योजना के अंतर्गत किसी आवेदक द्वारा खोले गये अकाउंट में जमा पैसे पर 8.6% प्रति वर्ष के हिसाब से ब्याज प्राप्त होगा. यह ब्याज दर अन्य योजनाओं के तहत प्राप्त होने वाली ब्याज दरों से अधिक है.
  • इस योजना के अंतर्गत अकाउंट में जमा पैसा टैक्स मुक्त है.
  • एक बार आवेदक की पुत्री 18 वर्ष की हो जाती है, तो इस अकाउंट में जमा पैसा उठाया जा सकता है. इस समय इस अकाउंट से उठाया गया पैसा लड़की की उच्च शिक्षा अथवा विवाह के लिए मान्य होगा.
  • 18 वर्ष की उम्र तक पहुँचने से पहले इस अकाउंट की देख रेख बच्ची के माता पिता अथवा कानूनी रूप से वैद्य अभिभावक के हाथ में होगा.
  • इस योजना के अंतर्गत अकाउंट खुलवाने के लिए बच्ची का जन्म प्रमाण पत्र होना अति आवश्यक है.
  • इस योजना की एक बहुत ख़ास बात ये है कि इस योजना के तहत खोला गया अकाउंट स्थानान्तरीय है. यानि यदि आपने जिस बैंक में अकाउंट खुलवाया है, उसे इस बैंक से दुसरे किसी मान्यता प्राप्त बैंक में स्थानांतरित कराना चाहे तो बहुत ही आराम से करा सकते हैं.
  • किसी एक बच्ची के नाम पर केवल एक ही अकाउंट खोला जा सकता है.
  • लड़की के 18 वर्ष पूरे होने पर जमा पैसे का केवल 50% ही उठाया जा सकता है. जैसा कि बताया गया है इसकी मैच्योरीटी पीरियड 21 वर्ष की है, अतः लड़की की 18 वर्ष से 21 वर्ष की उम्रावास्था के दौरान जमा राशि का सिर्फ 50% ही उठाया जा सकता है.
  • यह अकाउंट एक बार खुलने के बाद तभी बंद किया जा सकता है, जब लड़की 21 वर्ष की हो जाए और यदि 21 वर्ष की उम्रावस्था के बाद भी अकाउंट बंद न किया जाए तो अकाउंट में जमा पैसा पर ब्याज प्राप्त होता रहेगा.

सुकन्या समृद्धि अकाउंट कैसे खुलता है (How to Open Sukanya Samriddhi Account)

इस योजना के अंतर्गत पोस्ट ऑफिस को लाने का एक बड़ा कारण ये है कि देश के कई ग्रामीण इलाकों में बैंक मौजूद नहीं है, हालाँकि इन स्थानों में पोस्ट ऑफिस ज़रूर स्थापित हैं. अतः ग्रामीण क्षेत्रों के लोगों तक यह योजना पहुंचाने के लिए सरकार ने इस योजना के अंतर्गत पोस्ट ऑफिस को भी शामिल किया है. इस योजना के अंतर्गत अकाउंट खोलने के लिए ग्राहक को इन पोस्ट ऑफिस अथवा बैंक से फॉर्म प्राप्त करने की आवश्यकता होती है. इसके बाद इस फॉर्म को भर के आवश्यक दस्तावेज़ों के साथ जमा करने से अकाउंट खुल जाता है.

अकाउंट में डिपाजिट (Sukanya Samriddhi Account Deposit) 

यह योजना एक सेविंग स्कीम है. इस योजना के अंतर्गत किसी भी बच्ची के अभिभावक उसके नाम से पैसे जमा करा सकते हैं. इस अकाउंट में जमा किये गये पैसे से बच्ची का भविष्य उज्ज्वल और सुरक्षित हो सकेगा.

  • इस योजना के अंतर्गत अधिकतम दो बच्चियों के लिए अकाउंट खोला जा सकता है. अतः किसी परिवार में 2 से अधिक बच्चियां हो, तो उनके लिए यह अकाउंट नहीं खोला जा सकेगा.
  • हालाँकि यदि दो बच्चियां जुड़वाँ पैदा होती हैं, तो यह अकाउंट परिवार की तीसरी बच्ची के लिए खोला जा सकता हैं.
  • कोई व्यक्ति अपनी गोद लिए गये बच्ची के लिए भी यह अकाउंट खोल सकता है.

सुकन्या समृद्धि अकाउंट के अंतर्गत ब्याज दर (Sukanya Samriddhi Account Interest Rate)

इस योजना के अंतर्गत एक अच्छा ब्याज दर जारी किया गया है. ध्यान देने वाली बात है कि इस योजना के अंतर्गत कोई व्यक्ति तभी अपने पैसे जमा करेगा, जब उसे उसके जमा किये पैसे पर एफ़डी से अधिक लाभ प्राप्त नहीं होता. अतः सरकार ने इसके लिए 9.10% का ब्याज दर तय किया है, जिसके अंतर्गत इसमें जमा किये गये पैसे पर ब्याज प्राप्त हो सकेगा. यह ब्याज दर निश्चित तौर पर सालाना ही है. किन्तु साल 2017 – 18 में यह ब्याज दर घट कर 8.4 हो गई है.

मैच्योरिटी से पहले अकाउंट बंद होने की शर्त (Sukanya Samriddhi Account Pre Closure)

यह योजना मैच्योरिटी के पहले भी बंद हो सकती है. इसके लिए कुछ विशेष शर्तें हैं. यदि खाताधारक बच्ची की मृत्यु किसी कारण वश 18 वर्ष से पहले हो जाती है, तो अकाउंट बंद हो जाएगा. इसके बाद अकाउंट में जमा की गयी राशि प्राप्त करने के लिये बैंक में बच्ची का लीगल मृत्यु प्रमाणपत्र (death certificate) दिखाने की आवश्यकता होती है.

मैच्योरिटी के पहले एक और कारण से अकाउंट बंद हो सकता है. यदि केंद्र सरकार को ऐसा लगता कि अभिभावक के लिए इस योजना का भार वहन करना मुश्किल होता जा रहा है, तो अकाउंट बंद कर दिया जाएगा.

सुकन्या समृद्धि योजना से लाभ (Sukanya Samriddhi Account Benefits)

इस योजना के अंतर्गत ग्राहको को कई तरह के लाभ प्राप्त होते हैं. इस योजना के मुख्य फायदों का वर्णन नीचे किया जा रहा है,

  • इस योजना के अंतर्गत इस समय सबसे अधिक इंटरेस्ट रेट प्राप्त हो रहा है. अतः इस योजना के तहत पैसा जमा करने पर उस पैसे पर अधिकतम ब्याज प्राप्त हो सकेगा.
  • एक बार लड़की के वयस्क हो जाने के बाद वह अपना अकाउंट ख़ुद चला सकती है. इस समय किसी अभिभावक का कोई हस्तक्षेप उसके अकाउंट पर नहीं होगा.
  • इस योजना से लड़कियों के लिए निरंतर पैसे जमा हो सकते हैं. इस पैसे का लाभ लड़कियां अपने शिक्षा के लिए कर सकेंगी. इस तरह से भारत में स्त्रियों की शिक्षा में विकास हो सकेगा.
  • पैसा जमा करने वाला एक वर्ष में कितनी बार भी पैसा जमा करा सकता है. इसके लिए किसी भी तरह की किश्तों की संख्या तय नहीं की गयी है.

योजना के अंतर्गत टैक्स लाभ (Sukanya Samriddhi Account Tax Benefits)

योजना के अंतर्गत अकाउंट में डाले गये पैसे और उसपर मिल रहे व्याज पर किसी भी तरह का टैक्स नहीं लगेगा. इनकम टैक्स 80C के अनुसार इस अकाउंट में जमा किये गये पैसे पूरी तरह आयकर मुक्त होंगे.

योजना की कमियां (Sukanya Samriddhi Account Scheme Limitations)

इस योजना की कुछ कमियां भी हैं, जो कुछ ग्राहकों को पसंद नहीं आ सकेंगी. हालाँकि ऐसे बहुत कम ही लोग होंगे. इस योजना की कमियों का वर्णन नीचे किया जा रहा है.

  • डिपाजिट का लॉक इन पीरियड अन्य योजनाओं तथा सेविंग प्लान से अधिक है.
  • यह लाभ किसी परिवार के 2 बच्चियों को ही प्राप्त हो सकेगा. अतः किसी परिवार में 2 से अधिक बच्चियां हैं, तो उनको यह लाभ प्राप्त नहीं हो सकेगा.
  • इस योजना के अंतर्गत पैसे ऑनलाइन माध्याम से जमा नहीं किये जा सकेंगे. चेक, कैश अथवा डिमांड ड्राफ्ट की सहायता से ही अकाउंट में पैसा डाला जा सकेगा.
  • इस योजना के तहत जमा किये गये पैसे पर किसी तरह का लोन नहीं प्राप्त हो सकेगा.
  • इस योजना का ब्याज दर प्रति वर्ष बदलता रहेगा. अतः भारतीय बजट के अनुसार प्रतिवर्ष इस ब्याज दर में परिवर्तन हो सकता है. ऐसा भी हो सकता है कि भविष्य में इस ब्याज दर में कमी आ जाए.

ध्यान देने योग्य बातें (Sukanya Samriddhi Account Scheme Important Points)

  • यह योजना केवल स्त्रियों के लिए है. इस योजना का लाभ सिर्फ बच्चियों को प्राप्त होगा. अकाउंट में खाताधारक के नाम के स्थान पर बच्ची का ही नाम रहेगा.
  • खाता को लगातार ज़ारी रखने के लिए प्रतिवर्ष इसमें पैसे डिपाजिट करने पड़ेंगे.
  • निश्चित समय में पैसा जमा न कर पाने पर 50 रूपए का फाइन भी लग सकता है.
  • इस योजना मे आंशिक रूप से पैसा तब भी निकाला जा सकेगा, जब खाताधारक की आयु 18 वर्ष पार कर जाए या वह दसवीं कक्षा में उत्तीर्ण हो जाए.

Other Articles